रविवार, जून 21, 2015

पिता के लिए एक दिन ....(father's Day par ) दुनिया के हर पिता को समर्पित


एक पिता के काँधे पर 
होता है भार अपनी
सृष्टि का , 
जैसे छत को 
संभाले रखती हैं दीवारें , 
अपनी  मजबूत पकड़ के साथ |
पूर्ण  रूप से निबाहता  है 
अपनी जिम्मेवारियों को ,
हर मौसम पिता के 
लिए होता है चुनौतियों
से भरा | 
जब बच्चों की ख़ुशियाँ 
खरीदने  में 
करना पड़ता है उसे  चुनाव ,
एक के बदले,
कुछेक का त्याग !
वो  पल पिता के लिए 
किसी जंग से कम नही होता |
मर्द का एक दम्भ 
“मर्द को दर्द नहीं होता “ 
करता है एक झूठे आवरण का काम |
जब अपनी भावनाओं
को छिपाने 
के लिए 
लेना पड़ता है पिता  (मर्द )
को झूठा  सहारा , 
छुपाने के लिए 
अपने आंसुओं को
बेटियों के विदाई में |
पिता की निगाहें भी जानती हैं 
कबतक संभालना है 
गौहर का समंदर |
एकांत  देखकर  
बांध हार मान  जाते हैं…
पिता के अंदर भी छुपी
होती है एक मासूम गुड़िया 
जो चलती है वक़्त की चाभी से |
पिता सीख जाता है 
वक़्त का हर सबक |
निराशा से भरी परत को,
झाड़ता है 
अपने धैर्य से
जो धूल सी जमने लगती है 
जीवन के गुलदस्ते में |
वक़्त की थपेड़ों   से कभी 
डगमगाते  हुए धीरज को 
संबल  देता है एक सजीव 
स्पर्श,
जो होती है 
उसके बच्चों की किलकारियों 
के रूप में 
कभी अँगुलियों का स्पर्श |
बच्चों के   ख्वाहिशें  
आसमान हुए  जाते  हैं 
उसकी एक भी इच्छा 
ज़मीन से  उठ नहीं पाती 
बच्चों की खुशियों 
की बोली (डाक ) में 
खुद को नीलाम कर देनेवाला 
वही पिता , 
कुछ बच्चों के  लिए 
 एक बेकार
वस्तु की तरह
 बन जाता है  !

" रजनी मल्होत्रा नैय्यर "

3 comments:

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन के पितृ दिवस विशेषांक, क्यों न रोज़ हो पितृ दिवस - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (22-06-2015) को "पितृ-दिवस पर पिता को नमन" {चर्चा - 2014} पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
अन्तर्राष्ट्रीय योगदिवस की के साथ-साथ पितृदिवस की भी हार्दिक शुभकामनाएँ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

रचना दीक्षित ने कहा…

बेहद भावपूर्ण प्रस्तुति