गुरुवार, अगस्त 26, 2010

हर जर्रे में तू है ये अहसास तो है

गुलजार है गुलशन मेरा आज भी तसव्वुर में ,
हर जर्रे में तू है ये अहसास तो है ,
उन कहकहों का क्या करूँ  ?
जो याद आ कर आज दिल को जलाती हैं ".

9 comments:

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

khul ke hasso......aur dil ko jalne se pahle hi unhe hawa me uda do..:D

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

khul ke hasso......aur dil ko jalne se pahle hi unhe hawa me uda do..:D

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

sahi kaha aapne .........

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

dil ko chhoo lene wali rachhna..badhai

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

dil ko chhoo lene wali rachhna..badhai

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

hardik sukriya vijay ji

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति.

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

anamika ji aabhar

ana ने कहा…

bahut sahii likha hai aapne...........