शनिवार, जुलाई 01, 2017

ग़ज़ल
सभ्यता की वो निशानी है अभी तक गाँव में
इक पुराना पेड़  बाक़ी है   अभी तक गाँव में

शहर में फैले हुए   हैं   कांटे नफ़रत के मगर
प्रेम की बगिया महकती है अभी तक गाँव में

चैट और ईमेल पर  होती  है  शहरी गुफ़्तगू
ख़त किताबत ,चिट्ठी पत्री  है अभी तक गाँव में

दौड़ अंधी शहर में पेंड़ो को हर दिन काटती
पेंड़ो की पर पूजा होती है अभी तक गाँव में

एक पगली सी नदी बारिश में आती थी उफ़न
वैसे ही सबको डराती है अभी तक गाँव में

शहर में चाइनीज़ थाई नौजवानों की पसंद
ख़ुशबू पकवानों की आती है अभी तक गाँव में

दिन के चढ़ने तक हैं सोते मग़रिबी तहज़ीब में
तड़के- तड़के ही प्रभाती है अभी तक गाँव में


सभी ब्लॉगर साथियों को ब्लॉगिंग दिवस की शुभकामनायें


रविवार, मार्च 12, 2017

राधिका रंग गयी श्याम के रंग में
तुम भी रंग जाओ ऐसे मेरे रंग में

मैं    तेरे    रंग   में तू   मेरे  रंग   में
दोनों  खो  जाएँ  हम  मदभरे रंग में

क्या रखा लाल पीले  हरे  रंग  में
आओ  रंग  दें  तुम्हें इश्क़ के रंग में


चढ़ गया है नशा सबपे फागुन का
हर   कोई  झूमता   है नए रंग   में


पीत पट का  वसन और अधर लाल है
साँवरे  जँच रहे  हैं  साँवले  रंग  में

है  लिबास अपना मौसम  बदलने लगा
अब धरा   दिख  रही   है  हरे  रंग में

कह  रहा   मुझसे   ये मेरा  मन बावरा
"रजनी" मैं  भी घूल जाऊँ केसर घुले रंग में

रजनी मल्होत्रा नैय्यर