बुधवार, सितंबर 08, 2010

आज डूबने को छोड़ गए , भर कर सैलाब.

"समझ ना पाए वो ,
चाहत हमारी बताने के भी बाद ,
कभी आंसू हटाया था रुखसार से मेरे,
आज डूबने को छोड़ गए ,
भर कर सैलाब."

5 comments:

ana ने कहा…

aap kam shabdo me bahut kuchh kaha deti hai............yahi aapkii khoobi hai

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

sukriya mam ye to aapka sneh hai jo mujhe prerit kar raha aur bhi achha likhne ka.

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत खूब कहा कम शब्दों में.

उपेन्द्र " the invincible warrior " ने कहा…

rajni ji

dard ki behad gahri anubhuti

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

sameer ji ......... hardik sukriya kafi dinobaad aaye achha laga aapka aana........

upendra ji hardik sukriya aapko bhi yun hi sneh bana rahe.......