मंगलवार, जून 01, 2010

टूट कर भी मेरा वजूद, बिखर नहीं पायेगा

जिस पर टिका है ,
अस्तित्व मेरा ,
वो बुनियाद ,
तुम्हारा कांधा है,
जानती हूँ ,
टूट कर भी मेरा वजूद,
बिखर नहीं पायेगा ,
क्योंकि ,
इसे ,
तुम्हारे संबल ने,
मजबूती से बांधा है .

7 comments:

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

tippani sambhav hia

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

bahut majboot kandha hai.....:)

waise bhi aapka wajood anmol hai......tut nahi payega....!!

ek utkrisht rachna!

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

mukesh ji aapke blog par tippani nahi kar payi hun, vivah samaroh tha ghar me par ab time de paungi.
hardik naman mere rachnaon ko apna amulya samay dene ke liye.

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

mukesh ji aapke blog par tippani nahi kar payi hun, vivah samaroh tha ghar me par ab time de paungi.
hardik naman mere rachnaon ko apna amulya samay dene ke liye.

Er. Lalit K Bansal ने कहा…

rajni mam,
i love ur collection

Er. Lalit K Bansal ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

lalit ji hardik sukriya sneh milta rahe