रविवार, मई 02, 2010

मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा.



मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुमे हो जायेगा,
दीवारों से टकराओगे जब इश्क तुमे हो जायेगा ,
हर बात गवारा करलोगे मन्नत भी माँगा करलोगे,
ताबिजें भी बंध्वाओगे जब इश्क तुमे हो जायेगा,
तन्हाई के झूले झूलोगे और बात पुरानी भूलोगे
आईने से घबराओगे जब इश्क तुमे हो जायेगा,
जब सूरज भी खो जायेगा और चाँद कहीं सो जायेगा,
तुम भी घर देर से आओगे जब इश्क तुमे हो जायेगा,
जब बेचैनी बढ़ जाएगी और याद किसी की आएगी ,
तुम मेरी ग़ज़लें गाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा.

किसी ने  बहुत अच्छा  लिखा  है  इश्क  का   पहला  पहलू  दूसरा  पहलू मै   देने  की कोशिश कर रही उपरोक्त ग़ज़ल किसी के द्वारा मुझे मिला है जिसे मै अपने कुछ और सब्दों से सजा रही.......

कुछ पंक्तियाँ मेरो ओर से....

मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
बैठे तन्हा मुस्काओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
जगकर सपने बुनोगे हर गम को भूलोगे,
मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
बिन श्रृंगार सज जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
बेचैनी भूल जाओगे जब एक चाँद सा चेहरा मुस्काएगा,
पतझड़ को भी सावन पाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
भूख नींद भूल जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा,
मेरे जैसे बन जाओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा.

"रजनी"

9 comments:

drshailendra ने कहा…

I really liked these lines
जब सूरज भी खो जायेगा और चाँद कहीं सो जायेगा,
तुम भी घर देर से आओगे जब इश्क तुम्हें हो जायेगा.

You have the feelings and thoughts to write something but you use hard and big words which are not very receptive for the audience. Kumar Vishwas uses very soft words for his poems, so they become very very simple for the audience or readers. Listen Kumar Vishwas with care. His many many poems are available at Orkut.

Above mentioned lines are in very soft words, and message is delivered in very reader friendly manner.Those lines are outstanding in your poem, and one can compare with any current poem/poet/poetess in India.

श्यामल सुमन ने कहा…

सुन्दर भाव। चलिए मैं भी कुछ जोड़ दूँ-

जहाँ जीने चाहत दिल में वहाँ इश्क का होना लाजिम है
खुद को खुद से भरमाओगे गर इश्क तुम्हें हो जायेगा

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

Udan Tashtari ने कहा…

क्या बात है...बहुत खूब!

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

बहुत उम्दा
इस एहसास से हम गुज़र चुके हैं

Shekhar Kumawat ने कहा…

AB HAME PYAR HO GAYA AAP KI GAZLO SE

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

khubsurat.........panktiyan!! dil ke kareeb!!
.
.
.
ye word verification hata dijiye ma'm!!

वन्दना ने कहा…

उसको ही हर तरफ़ पाओगे
जब इश्क़ तुम्हे हो जायेगा
अपने अक्स मे भी दीदार
उसी का पाओगे
जब इश्क़ तुम्हे हो जायेगा
बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

Rajni Nayyar Malhotra ने कहा…

aapsabhi ko hardik naman.......

c.s. ने कहा…

bahut sundar rachna hai apki.
jo ishk ki rah pr brabar jachti hai.