सोमवार, अक्तूबर 15, 2012

मुरझा गयी हैं कलियाँ बिन बागवान के

एक ग़ज़ल महबूब के नाम ..........

हो जाती ग़ज़ल खिलकर गुलाब सी,
एक बार वो फिर से दीदार दे जाते |

हो जाती मदहोश लिपट कर "चांदनी रात"
संग जागकर फिर वही ख़ुमार दे जाते |

ले जाते मेरी भीनी सी खुशबू की सौगात
एक बार पहलू में आकर वो प्यार दे जाते |


मुरझा गयी हैं कलियाँ बिन बागवान के,
उन कलियों को फिर वही बहार दे जाते |

"रजनी नैय्यर मल्होत्रा "
Like · ·

10 comments:

Dheerendra singh Bhadauriya ने कहा…

वाह ,,,क्या बात है बहुत सुंदर गजल,,,रजनी जी,,

RECENT POST ...: यादों की ओढ़नी

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

चर्चा मंच सजा रहा, मैं तो पहली बार |
पोस्ट आपकी ले कर के, "दीप" करे आभार ||
आपकी उम्दा पोस्ट बुधवार (17-10-12) को चर्चा मंच पर | सादर आमंत्रण |
सूचनार्थ |

sangita ने कहा…

गजलों कि रचना में सदा कि तरह सुनहरा दखल भावविभोर कर देती है आपकी गजल |

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

bahut bahut shukriya aap sabhi ko is sneh ke liye ......

मदन शर्मा ने कहा…

बहुत ही अच्छा लिखा आपने .

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 24/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

Reena Maurya ने कहा…

बहुत खूब..
बहुत प्यारी,और मनभावन गजल..
शानदार..
:-)

sushma 'आहुति' ने कहा…

behtreen gazal...

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…


एक बार वो फिर से दीदार दे जाते …
बहुत ख़ूबसूरत !

रजनी मल्होत्रा नैय्यर जी
अच्छी रचना अच्छे भाव !
ग़ज़ल के बहुत क़रीब है … अच्छे काव्य-प्रयास के लिए बधाई !

लिखती रहें … और श्रेष्ठ लिखती रहें …
शुभकामनाओं सहित…

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

Hardik aabhar aap sabhi ko yahan tak aayen, mai kuchh samay se blog zagat se dur rahi .......