गुरुवार, अगस्त 18, 2011

ये , रौशनी और दीया सलाई

   स्वास्थ्य खराब रहा ,  काफी दिनों बाद ब्लॉग  पर आई हूँ आपसभी के रचनाओं  से वंचित  रही .......... 


ये रौशनी , और  दीया  सलाई ,
सब मिलकर भी नहीं मिटा पाते हैं ,
अंतस के अंधकार को ,
अंतस  के बंद कमरों को ,
रोशन करने के लिए ,
नहीं पहुँच पाते चाह कर भी बाहरी उजाले ,
घेर रखी है एक चहारदीवारी सी ,
जिसमे झाँकने का एक झरोका भी नहीं ,
दरवाजे तो होते हैं पर बुलंद ,
जो खुलते हैं सिर्फ मन के दस्तक देने से ,
बाहरी रौशनी की छुअन या आघात,
नहीं हिला पाती है अंतस के दीवार को , 
किवाड़ को,
और  जरुरत ही  क्या है ?
दीया सलाई की.
अंतस के कमरे तो ख़ुद ही चेतना के जागने से ,
जल उठते हैं ,
और मन
नहा उठता है ,
रौशनी की जगमगाहट से .


8 comments:

Dorothy ने कहा…

गहन भावों की खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
सादर,
डोरोथी.

vidhya ने कहा…

वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

: केवल राम : ने कहा…

बेहतरीन अभिव्यक्ति ....!

kumar ने कहा…

बेहद खूबसूरत है ....

Rakesh Kumar ने कहा…

रजनी जी आत्म चेतना का प्रकाश अंतस को प्रकाशित करता है.आपकी सुन्दर प्रस्तुति विचारोत्तेजक है.
आभार.

मेरे ब्लॉग पर आप आयीं,इसके लिए भी आभार.

एक बार फिर से मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
भक्ति शिवलिंग पर अपने सुविचार प्रस्तुत करके
अनुग्रहित कीजियेगा.

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

aap sbhi ko mera hardik aabhar...

virendra ने कहा…

aatmik anubhootiyon kee chiteri sukavi chhavi ko naman rajni ji aap antashchetnaa ke prakaash se jag aalokit kartee rahen , lekhni nitya sanwarti rahe yahee kaamnaa hai .

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

aabhar virendra ji..........