गुरुवार, सितंबर 16, 2010

पाना आसान नहीं , मंजिल की राह,

"ख़्वाब सजते हैं,
पलकों पर,
आसानी के साथ,
साकार करने में ,
मुद्दत भी लग जाते हैं,
पाना आसान नहीं ,
मंजिल की राह,
पाने में मंजिल,
पैर को ,
छाले भी पड़ जाते हैं."

"रजनी नैय्यर मल्होत्रा"

9 comments:

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

संजय भास्‍कर ने कहा…

कुछ शीतल सी ताजगी का अहसास करा गई आपकी रचना।

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

manjil ke rah pane me pair me chhale pad jate hain.........:)
sahi kaha aapne............aur fir bhi kabhi manjil nahi milta!!

अनाम ने कहा…

behtreen rachna....

shukriya padwaane ke liye..

डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…

sanjay ji ........
mukesh ji .........
sonal ji ..........aap sabhi ko mera hardik aabhar yun hi sneh banaye rahen .......

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

बहुत खूबसूरत.....

Unknown ने कहा…

nice and educational poem...Thanks!

डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.
डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…

aabhar aruna mam .............

upendra ji aapko bhi hardik aabhar mera.......