शनिवार, मई 09, 2020

मातृ दिवस की बधाई संसार की सभी माताओं को

माँ की ममता किसी ख़ास पल की मोहताज नहीं फिर भी
मातृ दिवस की बधाई संसार की सभी माताओं को

आह दर्द और बेचैनियों को पहचान लेती है
 वो बिन बोले ही   सारी  बातें  जान लेती  है
 माँ का राब्ता बच्चों  संग  दिल-ओ-जान  से
 गुज़र जाती है  हद्द से जब  वो ठान लेती  है

************************************
स्नेह का पिटारा हो, रोज खुल जाती हो, लगती हो त्यौहार माँ
****************************************

"जब भी मचलता  है मेरे  अंदर      का    बचपन,
पास तेरे आकर  माँ  लिपट जाता है मेरा  बचपन "


************************************
चूम लिया माँ ने लगाकर गले से हर बला मेरे सर से टल गई
****************************************

तेरे हुनर के क़द सा कुछ भी नहीं ,तुझ पर लिखूँ भी तो क्या लिखूँ  माँ ( 😊 अपनी माँ समर्पित  )

********************************************
सफ़र में माँ की दुआओं का सर पे साया है हर एक बला से मुसीबत से बचा लेगा
*******************************************
"लारा"

9 comments:

Jyoti Singh ने कहा…

बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ ,मातृदिवस की बधाई हो आपको

yashoda Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 10 मई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…

आभार सुधिजनों 🙏

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

माँ को सादर नमन !

सुनीता अग्रवाल "नेह" ने कहा…

सुंदर ।भावपूर्ण

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

मातृ दिवस पर सुन्दर प्रस्तुति।

दिगंबर नासवा ने कहा…

MA की महिमा अपरम्पार है ..
सुंदर पंक्तियाँ हैं ...

डॉ रजनी मल्होत्रा नैय्यर (लारा) ने कहा…

आभार आपसभी को

संजय भास्‍कर ने कहा…

सुंदर पंक्तियाँ.....माँ को सादर नमन