सोमवार, जुलाई 26, 2010

ये नशा , शराब का नहीं, उनकी आँखों का है.

 लोग कहते हैं मुझे,
बिन पिए ही झूमते हो,
क्या बताऊ ,
उनकी आँखों में ,
नशा ही,
 सौ बोतल का है
ये नशा ,
शराब का नहीं,
उनकी आँखों का है.

8 comments:

shailendra ने कहा…

kya khub kahi aapne , wakai mein in akhon ka apna ek alag hi surror hota hai..............

ललित शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर जी
आँखे तो मयखाना हैं।

आभार

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

hardik sukriya .........shailendra ji
lalit ji ....

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

nashe ka kya, wo bottle se ho, ya aankho se .....bas log jhumte rahte hain.......:)

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

hardik sukriya aapsabhi ko

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

amrendra "aks" ने कहा…

ver nice rajni ji badhai

रजनी नैय्यर मल्होत्रा ने कहा…

sanjay ji ...........
amrendra ji aapdono ko hardik sukriya.