रविवार, जून 07, 2020

जन्मदिवस बधाई संदेश

 जन्मदिवस  बधाई संदेश

मिलने लगे स्नेह भरे शुभ सन्देश के बोल
ये आशीष समेट लूँ  भर लूँ दामन   खोल
"रजनी"


अपनेपन का आभास मिला आदर और उत्साह मिला
इन आभासी रिश्तों से भी अपनों वाला अनुराग मिला
सगे रिश्तों से बढ़ कुछ नाते मिले ये तो है सौभाग्य मेरा
कुछ लोगों पर विश्वास बढ़ा कुछ लोगों से विश्वास मिला

"रजनी"

बुधवार, जून 03, 2020

मेरी हस्ती न मापो ऐसे शहद  ज़ुबाँ वालों
तुम्हारी हर जहरीली चाल की ख़बर है मुझे


******************************
मतलबों   में  ढलते  रिश्ते
पल-पल रंग बदलते रिश्ते
अपने   ही  करते    गद्दारी
बेबस मन को ख़लते रिश्ते

******************************
छुड़ा लो  दामन उनसे तो और नहीं डस पाएँगे
रिश्तों के केंचुल ओढ़े जो आस्तीन के  साँप  हैं
********************************

मैं तो उनलोगों के हर  साज़िश से वाक़िफ हूँ
बस देखना है उनके गिरने की हद्द क्या है

******************************


किसी  के ज़ख्म का कोई ख़रीदार नहीं  होता
ज़ख़्म बिक जाए कहीं ऐसा बाज़ार नहीं होता
लोग मिल जाते अगर हाथों  में   मरहम   लिए
टूटकर  लोगों का  दिल ऐसे बेज़ार नहीं  होता

********************************
चेहरे पर चाहे लाखों चेहरे रखो मुखौटे डाल कर
उखड़ जाते गहरे शजर भी वक़्त की आँधियों में

*********************************
फ़रेब खा कर मुस्कुराना  सीख लो
काँटों से  दामन  छुड़ाना सीख  लो
दफ़्न करके अपने दिल में सारे ग़म
रिश्तों को तुम आज़माना सीख लो
*********************************
ज़ख्म सील गए तो क्या दाग़ तो रह  जाएँगे
बीत गए मंज़र तो  क्या  याद तो रह  जाएँगे
*********************************
 आवारा बनकर लगा भटकने गलियों में दर्द मेरा 
 आस्तीन के साँप जब  गमख़्वार बनकर आ गए
*********************************

 नादाँ समझ कर पिलाते रहे लहू  जिनको 
 वो सारे के सारे अपने आस्तीन के साँप थे 
**********************************

पास आ विश्वास बढ़ाकर अपने ही छल जाएँ तो 
दुर्भाव लिए चाल मात की अपने ही चल जाएँ तो 
दिखावे की ख़ातिर ऐसे रिश्ते-नातों की  चाह नहीं
द्वेष जलन की अग्नि में जब अपने ही जल जाएँ तो 
" लारा मल्होत्रा नैय्यर "रजनी 

शुक्रवार, मई 15, 2020

ऐसे तो हर एक जंग में होती है शह और मात

ऐसे तो हर एक जंग में होती है शह और मात
हमें अब  जीना होगा   इस  कोरोना के  साथ

हाथ मिलाना छोड़कर दोनों हाथों को जोड़िये
अपने संस्कार यही   हैं अपवादों   को  तोड़िये
मास्क लगा कर दूर से करें सब आपस में बात
हमें अब  जीना  होगा  इस  कोरोना  के  साथ

लौट कर  सब वापस सनातन संस्कृति में आईये
फ़ास्ट फूड को छोड़ हमेशा देशी  व्यंजन खाईये
अदरक हल्दी गिलोय और ले तुलसी  का  साथ
हमें अब  जीना   होगा   इस  कोरोना  के  साथ
"लारा"

शनिवार, मई 09, 2020

मातृ दिवस की बधाई संसार की सभी माताओं को

माँ की ममता किसी ख़ास पल की मोहताज नहीं फिर भी
मातृ दिवस की बधाई संसार की सभी माताओं को

आह दर्द और बेचैनियों को पहचान लेती है
 वो बिन बोले ही   सारी  बातें  जान लेती  है
 माँ का राब्ता बच्चों  संग  दिल-ओ-जान  से
 गुज़र जाती है  हद्द से जब  वो ठान लेती  है

************************************
स्नेह का पिटारा हो, रोज खुल जाती हो, लगती हो त्यौहार माँ
****************************************

"जब भी मचलता  है मेरे  अंदर      का    बचपन,
पास तेरे आकर  माँ  लिपट जाता है मेरा  बचपन "


************************************
चूम लिया माँ ने लगाकर गले से हर बला मेरे सर से टल गई
****************************************

तेरे हुनर के क़द सा कुछ भी नहीं ,तुझ पर लिखूँ भी तो क्या लिखूँ  माँ ( 😊 अपनी माँ समर्पित  )

********************************************
सफ़र में माँ की दुआओं का सर पे साया है हर एक बला से मुसीबत से बचा लेगा
*******************************************
"लारा"

बुधवार, मई 06, 2020

जब ज़िंदगी मुख़्तसर है


जब ज़िंदगी मुख़्तसर है दुआएँ भी क्या करें  
आधी मनाने में निकले आधी  आज़माने  में
*******************************
ओढ़ रखी  हैं जो उदासियों  ने  चादर 
 मुस्कुराहटें कह रही फेंक दे उतार  के
*******************************
फेंक कर सिक्के कभी दी गईं किसी मजबूर को
उसकी दुआएँ भी कभी लग जाती है  इंसान को

**********************************
ऐसे रीझ पड़ी मुझपर अँधेरी    बस्तियाँ
जैसे  कोई जगमगाता सूरज मेरे पास हो 
 *********************************
ज़िंदगी तेरा हर फ़ैसला मंज़ूर है
बस वक़्त को मेरे हक़ में कर  दे 
******************************

बेबसी  बेक़सी    दर्द  चैन    ख़ुशी
ज़िंदगी  बता क्या क्या तेरे नाम हैं
*******************************


प्रफुल्लित  है सृष्टि सारी  झूम रहे धरती अम्बर 
बस रोक लग गयी भागते मानव की  रफ़्तार  को 
*******************************
बढ़ जाता है सौन्दर्य सँवरने से 
श्रृंगार   हुस्न  का  मददगार  है

"लारा"




रविवार, मई 03, 2020

ग़ज़ल

देख लहरों को डर गए  कुछ लोग
नाव से ही  उतर  गए  कुछ   लोग

करके    क़ुर्बान    ज़िंदगी   अपनी
प्यार में उफ्फ बिखर गए कुछ लोग

हर सितम सह   रहे   यहाँ   जीकर
ज़िंदा रहकर भी मर गए कुछ लोग

सोच   कर    राह     की    परेशानी
राह में  ही    ठहर गए   कुछ   लोग

जो  खड़े    सर पे  हैं  कफ़न   बाँधे
साथ उनके उधर    गए  कुछ  लोग

दाग  लगने  न   दी  अना   पर  जो
आग पर से भी गुजर गए कुछ लोग

"लारा "

गुरुवार, अप्रैल 30, 2020

मजदूर

मजदूर कर्मयोगी  है
अपने साधना के पथ का,
रहता है निरंतर
प्रयासरत ,
पूरी करने के लिए
औरों के जीवन
के अनुष्ठान को |
करता है
जीवन अपना होम
जिसमें जलती  हैं
उसकी समस्त आकांक्षाएँ
यही है मजदूर की परिभाषा !
"लारा"

ख़ुदा से ली हुई उधार है ज़िदगी

कभी गुल कभी ख़ार है ज़िंदगी
कभी जीत कभी हार है ज़िंदगी
जब चाहे वो हमसे वापस ले ले
 ख़ुदा से ली हुई उधार है ज़िदगी
"लारा"

मंगलवार, अप्रैल 28, 2020

गीत : सुख दुख का है ताना बाना

सुख दुख  का है  ताना बाना
जीवन में इनका  आना जाना

जैसे   दीपक  संग  है   बाती
सुख- दुख हैं जीवन के साथी
चाहिए  जीने    का    बहाना
जीवन में  इनका  ताना बाना


 
दुःख   दर्शाती   है    मजबूरी
है रिश्तों की भी परख ज़रूरी
ग़म से मन को  मत  भरमाना
जीवन में  इनका  ताना  बाना


कुछ अपने भी  छल  जाएँगे
 गर  हालात    बदल  जाएँगे
हँसना और   सदा   मुस्काना
जीवन में इनका  ताना  बाना

"लारा"

रविवार, अप्रैल 26, 2020

पर कागज़ पर चलता नही जीवन का जहान

भूख और ग़ुरबत ने ले ली कई लोगों की जान
बनती ऐसी चर्चित पँक्तियाँ अखबारों की शान
पर कागज़ पर चलता नही जीवन का  जहान
देगा सबकी वक़्त  गवाही मत  घबरा   नादान
"लारा"